पहले शख्स

तुम पहले शख्स हो –

जिसे मैंने अपना हमराज बनाया है,

अपना हाले दिल सुनाया है,

वरना मुझे किसी पर एतबार नहीं .

तुम गैर मानुस हो अभी-

फिर भी लगता है बरसो से जानता हूँ तुम्हे,

पहली मर्तबा किसी को दोस्त कहा ,

वरना मेरा कोई यार नहीं .

गुबार ए जज्बात बिखेर कर तुम पर-

बहुत हल्का महसूस कर रहा हूँ खुद को ,

आज बैठ  कर तुम्हारे साथ दो घूंट पीऊंगा मै,

वरना मुझे जाम से प्यार नहीं .

–अनिल कुमार भ्रमर –


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Leave a Reply