नहीं थकती……।

नहीं थकती……।
—————————-
अश्रुपूरित नयन मेरे क्यों….?
राह तुम्हारी ताकते नही थकती

शून्यमात्र बिन तेरे-जीवन के पल
“प्रीत”हमारी-कहते नही थकती

मनुहार दिल की-सुने तेरा दिल भी
“उम्मीदें”दिल की-सहते नही थकती

गुदगुदाते मन को-मिलन के पल जो
“यादें”उस पल की-हँसते नही थकती

हृदय विह्वल-पुनर्मिलन की चाह मे-
आह्लादित बयार-बहते नही थकती

कर आलिँगन बन आश्रय मेरे प्यार का-
होता यूं ,कि–खुशियाँ बरसते नही थकती….।

—–रंजित तिवारी
पटेल चौक, कटिहार
पिन–854105
(बिहार)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Priya Gupta - March 3, 2018, 8:12 pm

    NICE 🙂

  2. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:22 pm

    Wah

Leave a Reply