नहीं थकती……।

नहीं थकती……।
—————————-
अश्रुपूरित नयन मेरे क्यों….?
राह तुम्हारी ताकते नही थकती

शून्यमात्र बिन तेरे-जीवन के पल
“प्रीत”हमारी-कहते नही थकती

मनुहार दिल की-सुने तेरा दिल भी
“उम्मीदें”दिल की-सहते नही थकती

गुदगुदाते मन को-मिलन के पल जो
“यादें”उस पल की-हँसते नही थकती

हृदय विह्वल-पुनर्मिलन की चाह मे-
आह्लादित बयार-बहते नही थकती

कर आलिँगन बन आश्रय मेरे प्यार का-
होता यूं ,कि–खुशियाँ बरसते नही थकती….।

—–रंजित तिवारी
पटेल चौक, कटिहार
पिन–854105
(बिहार)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Anirudh sethi - March 14, 2018, 8:13 pm

    kya baat…..bahut khoob

Leave a Reply