नया साल और मेरा प्यार

Vote 48+

Users who have voted this poem:

  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar
  • avatar

अब तो तुम मुझे मेरे हाल पे छोड़ दो,
मोहब्बत का सफर नये साल पे छोड़ दो !
आने लगी है प्यार की खुश्बू मेरे शर्ट से ,
जो मुझसे न हो उस सवाल पे छोड़ दो !!
राह से गुजरने वाली को बेतहाशा देखते हैं,
मेरी बर्बादी का कुछ लोग तमाशा देखते हैं !
स्वप्न का मेरा महल अब खंडहर हो गया है,
इन्तजार करते अब शाम से सहर हो गया है !!
हर रात मेरे सपने में तुम यूँ आया न करो,
खामखाँ मेरा दिल तुम यूँ दुखाया न करो !
कैसे बताउँ तुमको मैं कितना चाहता हूँ,
नये साल में खुदा से मैं तुम्हे मांगता हूँ !!
निगाहें-तलब से देखकर एलान करता हूँ,
प्यार का इजहार मैं सरेआम करता हूँ !
निशातकदे की खोज में चलता हूँ कहीं दूर,
नये साल में जल्दी से मैं ये काम करता हूँ !!


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Shakun Saxena - December 30, 2017, 1:02 pm

    क्रप्या मेरी कविता नव वर्ष आने को है वोट करें।

  2. Madhavi Chaurasia - December 26, 2017, 7:49 pm

    Bhut khub beta

  3. Jyotsana Chaurasia - December 25, 2017, 10:47 pm

    Awesome

Leave a Reply