नफ़रत

अमीर लोगों की अमीरी से

बड़े लोगों की बड़लोकी से

मुझे नफरत नहीं

मुझे नफ़रत है

उनके नखरों से

और मुझे ये भी मालूम है

कि जिन लोगों में

है ये नखरे

उन्हें ही नफ़रत होगी

मेरे इन अखरों से।

 

                                  कुमार बन्टी

 

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

दौड़ सी लगी है।

6 Comments

  1. सीमा राठी - April 2, 2017, 3:50 pm

    nice

  2. Mithilesh Rai - April 2, 2017, 9:43 pm

    बहुत खूब

  3. देव कुमार - April 3, 2017, 4:23 pm

    Bahut Umdaa

Leave a Reply