दौड़

दौड़ते परायी है जो
अपनी मंजिल छोड़ कर

कठिन है रास्ता
कदम रखना सोच कर

साथ न कोई आएगा
अकेले तुझे जाना है

जग मेरी मंजिल नहीं
कुछ पल का ठिकाना है

रास्ता पहचान लो
मंजिल फिर मुश्किल नहीं

-विनीता श्रीवास्तव(नीरजा नीर)-

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Arun - July 10, 2018, 11:52 pm

    Kya khoob likha hai

  2. Akanksha - July 12, 2018, 8:08 pm

    Beautiful lines

  3. Vinita Shrivastava - July 18, 2018, 6:07 pm

    धन्यवाद

Leave a Reply