दोस्ती

आज फिर
एक साथी मुझे छोड़कर चला गया
आँखों को रुलाकर चला गया
और होंठों को हँसा कर चला गया
पूछ बैठा कि नाराज तो नहीं हो
जाहिर भी कैसे करता दोस्त था अपना
जाते -जाते “अपना ख्याल” रखना
कहकर वो फिकर जताकर चला गया
चेहरे को मुस्कुरा कर चला गया
और हाथों को मिला कर चला गया
जाने अनजाने में ही सही
एक रिश्ता बनाकर चला गया
खुद बिखरा हुआ था अन्दर से
मुझे दुनिया हसीन बताकर चला गया
……………………………………………..
अनूप हसनपुरी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. देव कुमार - June 13, 2016, 1:06 pm

    So Nice

Leave a Reply