दोस्ती

दोस्ती का अजब सा
किस्सा है
दोस्त जीवन का
अहम
हिस्सा है ।

स्वार्थ का
नामोनिशाँ तक
है नहीं ,

जन्म जन्मों का
अमर रिश्ता
है ।

प्रिय मित्रों
वसंती सवेरे की सरस.
घड़ियों में
सपरिवारसहर्ष ,मंगलकामनाएँ
सहर्ष स्वीकार करें ।

आपका अपना मित्र
जानकी प्रसाद विवश

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Lucky - January 26, 2018, 11:08 am

    बहतरीन जी मेरी रचना प्रतियोगिता में है गणतन्त्र में हो सके तो कमेन्ट करें

  2. Jitender - January 26, 2018, 1:31 pm

    beautiful Kavita

  3. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:54 pm

    Wah

Leave a Reply