दूर दूर तक……

इस शहर का बहुत बुरा हाल देखा हमने
हर इंसान को गम से बेहाल देखा हमने

दूर दूर तक गम, तन्हाई, और ज़िल्लत देखी
हर गली, हर कूचा इश्क-ऐ-ऐतराम देखा हमने….!!

-देव कुमार

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. ज्योति कुमार - June 19, 2018, 8:24 am

    100% सत्य

  2. Neha - June 19, 2018, 9:46 am

    Very Nice

  3. देव कुमार - June 19, 2018, 11:42 am

    Thank u so much neha

  4. देव कुमार - June 19, 2018, 11:42 am

    Thank you so much Jyoti ji

  5. राही अंजाना - July 10, 2018, 11:46 pm

    Waah

Leave a Reply