दिल

किसी का
दिल भी ,
आईने की तरह
टूट गया।
लाख
पुचकार कर
जोड़ें,
नहीं जुड़ पाएगा ।
रास्ता
जिंदगी का
बन गया
आड़ा-टेढ़ा ,
लाख चाहें ,
नहीं
सीधा कभी ,
मुड़ पाएगा ।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply