दरारें दिल की

“दरारें दिल की”
********
दरारें दो दिलोंकी दिख न जायें, दुनिया वालों को।
प्यार से पाट लो, कहीं प्यार न बदनाम हो जाए ।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply