तेरी बुराईयों को हर अखबार कहता है,

तेरी  बुराईयों  को  हर अखबार कहता है,
और  तू  है  मेरे  गाँव  को गँवार कहता है.

ऐ  शहर  मुझे  तेरी सारी औकात पता है,
तू  बच्ची  को भी हुश्न-ए-बहार कहता है.

थक  गया है वो शक्स काम करते -करते,
तू  इसे  ही अमीरी और बाज़ार कहता है.

गाँव  चलो  वक्त  ही  वक्त है सब के पास,
तेरी  सारी  फ़ुर्सत  तेरा इतवार कहता है.

मौन  होकर फ़ोन पे रिश्ते निभाये जा रहे,
तू इस  मशीनी दौर को परिवार कहता है.

वो  मिलने  आते थे कलेजा साथ लाते थे,
तू  दस्तुर  निभाने को रिश्तेदार कहता है.

बडे – बडे मसले हल  करती थी पंचायते,
तू अंधीभ्रष्ट दलीलो को दरवार कहता है.

अब  बच्चे  तो बडो का अदब भूल बैठे है,
तू  इसे  ही नये दौर का संस्कार कहता है.

हरेन्द्र सिंह कुशवाह
“एहसास”

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

अब डर सा लगता है

तेरी सुबह बङी निराली है

क्या जालिम अदा है तेरी

ऑंखें तेरी खुलीं

8 Comments

  1. देव कुमार - July 6, 2016, 5:01 pm

    Bahut Achi

  2. Kavi Manohar - July 6, 2016, 5:42 pm

    Nice one

  3. Harendra singh kushwah "aihsas" (एहसास) - July 7, 2016, 12:09 am

    शुक्रिया दोस्तो

  4. Praveen Nigam - July 7, 2016, 9:52 am

    bahut badiya dost

  5. Akhileshwar - July 8, 2016, 11:21 am

    Wah wah

Leave a Reply