तेरी नयन मदभरी गजब

💐 गजल 💐


तेरी नयन मदभरी गजब
तेरी अदाएं रसभरी गजब
मुस्कानो की पहचान नई
तेरी सदाएं खरी-खरी गजब
अंगड़ाई मे खिली मोहकता
तेरी जुबां मे प्रीत भरी गजब
चाहत मे ढला ईशक नवल है
तेरी नैनो नजर सरसरी गजब
मेरे प्यार की है तू ख्वाहिश
महबूबा तेरी जादूगरी गजब
श्याम दास महंत
घरघोडा
जिला-रायगढ (छग )

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply