तेरी ख्वाहिश

तेरी ख्वाहिश में हम क्या से क्या हो गये
कभी अपने थे हम, अब बैगाने हो गये

Previous Poem
Next Poem

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिता


समयसीमा: 24 फ़रवरी (सन्ध्या 6 बजे)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Profile photo of ashmita
H!

2 Comments

  1. Saavan - February 9, 2018, 10:34 pm

    आसान से लफ़्जों में बेहतरीन तरीके से जटिल भाव कह दिये| अप्रतीम|

Leave a Reply