तेरी इक मुसकराहट पर बहारें

“**प्रात:अभिवादन”**
****^^^^***
तेरी इक मुसकराहट पर बहारें
लौट आती हैं ।
तेरी इक मुसकराहट पर बहारें ,
गुल खिलाती हैं ।
महक जाता है तन मन और
हर उजड़ा हुआ उपवन ,
प्यार की वसंती रितु , जिंदगानी
गुनगुनाती है ।

जानकी प्रसाद विवश

प्यारे मित्रो,
प्यार बरसाते सुखद सवेरे
की
प्यार भरी
मंगलकामनाएँ
सपरिवारसहर्ष स्वीकार करें ।

जानकी प्रसाद विवश

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Panna - January 23, 2018, 4:11 pm

    Nice

Leave a Reply