तू ही बता दे जिंदगी

कुछ खो गया है मेरा

या फिर

मैं खुद ही लुटा रहा हूँ

जिंदगी कहीं

चल तू ही बता दे जिंदगी

आज़ नहीं तो

कल किसी और मोड़ पे सही

मुझे कोई जल्दी नहीं

लेकिन तुम

इतनी भी देर मत करना

कि खो चुका हूँ मैं

खुद को ही कहीं।

                                                                                                                                                                                        कुमार बन्टी

 

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

Talking to a friend

From Death 2 Life

From Death 2 Life

From Death 2 Life

अपने ही सूरज की रोशनी में

2 Comments

  1. Neetika sarsar - October 13, 2017, 6:17 pm

    Nice lines

Leave a Reply