तुम देह नहीं तुम देहाकार हो

तुम देह नहीं तुम देहाकार हो
देह में हो देह से मगर पार हो

क्या दिखायेगा रूप दर्पण तुम्हारा
देखो अंतर में, खुलेगा राज सारा
शाश्वत सौंदर्य ज्योति पारावार हो
देह में हो देह से मगर पार हो.

क्षणिक मौजों सा देह का उभार है
मुखडे में देखे क्यों सौंदर्य-सार है
भूले तुम, आत्मा का कैसे श्रंगार हो
देह में हो देह से मगर पार हो.

देख दर्पण ना जीवन गवां प्राणी
ह्दय नगरी में उतर हो जा फानी
ज्ञान रत्नों पूर्ण तेरे उदगार हो
देह में हो देह से मगर पार हो.

परख स्वयं को आत्मा खुद को मान
आत्माओं का पिता, परमात्मा को जान
ईश्वर स्वरूप  गुणों का भंडार हो
देह में हो देह से मगर पार हो.

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By Anju

Leave a Reply