तस्वीर

इक तस्वीर है इस दिल के पास।
फिर क्यु दिल है उदास – उदास।।

माना की तु दुर है सदियों से मगर,
तेरी यादे है मेरे दिल के आसपास।।

वो लरजते होठो से मेरे गीतो का गाना,
उन गीतो को आज भी है तेरी तलास।।

“योगेन्द्र” देखना मिल जायेगी मोहब्बत,
इसलिये तो दिल मे बसी है इक आस।।

योगेन्द्र कुमार निषाद
१०.०१.२०१८


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply