ठेस लगती है

जरूरत पे ली गई क़िस्त की कीमत, जान देकर जब किसी को चुकानी पड़े,

बह रहे यूँही जल को बचाने की खातिर किसी को, नल पर भी जब ताले लगाने पड़े,

प्यास पानी की हो जब बुझानी किसी को, तो चन्द बूंदों के पैसे चुकाने पड़े,

ठेस लगती है मन के उजालों को तब, जब रात अँधेरे में किसीको बितानी पड़े,

बिखर जाते हैं ख्वाब टूट कर धरती पर जब किसीको, फिर से घोंसले जब बनाने पड़े,

आँखें हो जाती हैं नम यकीनन सुनो जब किसी को, बात दिल की ज़ुबाँ से बतानी पड़े॥

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. ashmita - January 20, 2018, 10:47 pm

    Nice

  2. Panna - January 21, 2018, 3:21 pm

    बहुत ही सुंदर कविता

  3. Prince Verma - January 24, 2018, 7:22 pm

    fabulous

  4. Aisha Rawat - January 25, 2018, 8:28 pm

    Sweet

Leave a Reply