टूटता जा रहा हूँ मै

टूटता जा रहा हूँ मै .

छूटती हुई राहें-बढ़ता हुआ अँधेरा,

भटकता जा रहा हूँ मै .

टूटता  हुआ किनारा-उमड़ता हुआ सागर ,

डूबता जा रहा हूँ मै .

समाज का बंद कमरा-कमरे में मै अकेला,

घुटता जा रहा हूँ मै .

जिंदगी कि बेवफाई-निराशा कि गहराई,

टूटता जा रहा हूँ मै .

टूटता जा रहा हूँ मै .

-अनिल कुमार भ्रमर –

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

6 Comments

  1. Profile photo of Ramesh Singh

    Ramesh Singh - April 6, 2017, 9:11 pm

    बेहतरीन पंक्तिया

  2. JYOTI BHARTI - April 5, 2017, 7:00 pm

    Waah

  3. Profile photo of Sridhar

    Sridhar - April 5, 2017, 10:58 am

    shaandaar

Leave a Reply