जो लिखा ही नहीं वो ख़्यालो में है।

जो लिखा ही नहीं वो ख़्यालो में है।
जिंदगी का मज़ा अब सवालों में है।।
,
जो जाता है उसको चले जानें दो।
देख लेंगे हम ग़म के जो प्यालों में है।।
,
तस्वीरों को तेरी मैं अब रखता नहीं।
बस तेरा चेहरा अंधेरे उजालों में है।।
,
आँखों में मेरी है मंजिल ही मंजिल।
फिर दर्द थोड़े न पैरो के छालों में है।।
,
मौसमो की तरह था जो बदलता रहा।
चर्चा उसी की वफ़ा के मिसालों में है।।
@@@@RK@@@@


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

6 Comments

  1. Profile photo of Anil Goyal

    Anil Goyal - April 8, 2017, 3:30 pm

    वाह

  2. Profile photo of Mithilesh Rai

    Mithilesh Rai - April 8, 2017, 2:50 pm

    बहुत खूब बेहतरीन सृजन

  3. Kumar Bunty - April 8, 2017, 12:10 am

    DIL KO CHHU GYI GHAZAL

Leave a Reply