जीने की ख्वाहिश न मरने का गम है!

जीने की ख्वाहिश न मरने का गम है!

है अधूरी कहानी जख्म ही जख्म है !!

.

न तुमने कहा कुछ न हमने कहा कुछ!

बढी फिर भी दूरी ये वहम ही वहम है‌‌‍!!

.

कहीं तिरगी है और कहीं तन्हा राते !

कहीं पर है महफिल जश्न ही जश्न है!!

.

न वक़्त तुमको मिला न हमको मिला!

जो दिल मे थी बातें दफ्न की दफ्न है!!

.

सदिया है गुजरी ना है आहट ही कोइ!

ना साहिल को ही कोई ‌रंज ओ गम है!!

@@@@ RK@@@@

 

Previous Poem
Next Poem

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिता


समयसीमा: 24 फ़रवरी (सन्ध्या 6 बजे)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Neetika sarsar - May 22, 2017, 11:31 am

    Nice lines

  2. Profile photo of सीमा राठी

    सीमा राठी - May 21, 2017, 10:15 pm

    nice

Leave a Reply