जीतना

मुझको मुझसे जीत कर,
खुशियाँ मना रहे थे वो|
शायद हारकर जीतने और जीत कर हारने के ,
उस एहसास से वाकिफ़ न थे वो|

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. yadavjisayam1 - May 10, 2018, 6:22 am

    Mast

  2. bhoomipatelvineeta - May 10, 2018, 10:51 am

    Thank u …

  3. राही अंजाना - June 21, 2018, 12:44 am

    वाह

Leave a Reply