जागरूक मतदाता

सोंच समझकर वोट दें तो बन जायेगी तकदीर,
चलो निकाले सोच समझ कर ऐसी कोई तदबीर,

विश्व पटल पर छप जाये अपने देश की तस्वीर,
जागरूक करे जो हर जन को हो ऐसी कोई तरकीब,

लोकतन्त्र समझे नहीं और बहाते जो झूठे नीर,
जनता के मतदान से ही जो बन जाते बलवीर,

हर मतदाता का मान करे जो सरकार चलाये वीर,
चलो लगादे हिम्मत कर अब कोई ऐसी तरतीब।।

राही अंजाना

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. ashmita - December 4, 2018, 6:25 pm

    Nice

Leave a Reply