जवाब…

जवाब…
बस देती ही रही हूं जवाब…

घर जाने से लेकर
घर आने का जवाब…

खाने से लेकर
खाना बनाने का जवाब…

बस देती ही रही हूं जवाब…

चित्र से लेकर
चरित्र का जवाब…
सीता से लेकर द्रौपदी तक
बस देती ही रही हूं जवाब…

समर्पण में दर्पण देखने का समय ना मिला मुझे
मगर देती रही मैं सबको जवाब…

कभी उद्दंड
कभी स्वार्थी
कभी चरित्र हीन बताया…

थोड़ा अपने लिये जी
क्या लिया
अपनों को भी रास ना आया…

बेटी से पत्नी
पत्नी से बहू
बहू से माँ बन गयी…

नहीं खत्म हूवे सवाल
बस देती ही रही मैं जवाब…

आरंभ से लेकर अंत तक
बस देती ही रही मैं जवाब…

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Anshita Sahu - May 14, 2018, 8:14 am

    badia..very nice

  2. Mithilesh Rai - May 16, 2018, 5:50 pm

    बहुत खूब

  3. Neha - May 16, 2018, 7:23 pm

    Very nice Ma’am

  4. राही अंजाना - May 16, 2018, 8:40 pm

    Waah

  5. Kavita - May 18, 2018, 1:24 pm

    Mst yaar

  6. Vinod - May 18, 2018, 2:54 pm

    Good

  7. Neetu - May 18, 2018, 8:27 pm

    👌👌 mst

Leave a Reply