जब कभी

सपने में भी जब कभी तुम्हारा ख्याल आता है-

तो दर्द से तड़फ कर जाग जाता हूँ मै .

जब अंधेरों के सिवा कुछ मिलता नहीं वहां-

तो खुद ही खुद से घबरा जाता हूँ मै .

कभी गैर आ कर रुला जाते  है मुझको –

तो कभी खुद की ही हरकतों से परेशां हों जाता हूँ मै .

जिसको भी चाहता हूँ कि भूल जाऊं –

रह रह कर उसे ही याद कर जाता हूँ  मै .

आती नहीं जब कभी नींद रात में –

खुद ही खुद को थपकियाँ देकर सुलाता हूँ मै .

-अनिल कुमार भ्रमर

 

 

 

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

4 Comments

  1. Anjali Gupta - October 12, 2016, 2:56 pm

    amazing poetry :)

  2. MaN(मन) - October 12, 2016, 12:36 pm

    👌👌

  3. Profile photo of Panna

    Panna - October 12, 2016, 2:29 am

    Bahut Khoob!

Leave a Reply