जज्बात ए इश्क

जज्बात ए इश्क ना छुपाता दिल में अपने –

गर ना होता डर ज़माने का .

नहीं डरता ज़माने से भी में –

गर डर ना होता मर जाने का .

मर भी जाता मै –

गर मेरी मौत से

तेरी जिंदगी बन जाने का यकीं होता..

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Leave a Reply