जगत् का कल्याण हो

“”***जगत् का कल्याण हो “**
***************
हे मात भवानी ,जग कल्याणी,
भव का रूप सँवारो ।
भक्त जनों को, दैहिक दैविक,
भौतिक तापों से उद्धारो।

जब कृपा सभी पर बरसाती,
सारे संकट मिट जाते ।
हम सब संतान तुम्हारी ही ,
हौसले सभी हर्षाते।

विनती इतनी हम सब.भक्तों की,
भव का रूप निखारो।

भक्तिमय दिवस मातरानी
चंद्रघण्टा को नमन के साथ

सपरिवारसहर्ष शुभकामनाएँ स्वीकार करें।

सविनय,
आपका अपना मित्र
जानकी प्रसाद विवश

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply