जख्म दबाकर मुश्काता हूं

जख्म दबा – कर मुश्काता हूं |
चुप रहकर मैं चिल्लाता हूं |

मेरी बातें खुल न जाये |
बातों से ‘ मैं बहकाता हूं |

घर में ‘ आग लगा मत देना |
पानी पर मैं चढ़ जाता हूं |

मेरी आंखें नोच न लेना |
कुछ तो तुमको दिखलाता हूं |

गहरी चोटें बोल रही हैं |
खुद के खातिर लड़ जाता हूं |

तुम सब अपना छोड़ो यारों |
झूठा खुद को बतलाता हूं |

सारी ख्वाहिश ‘ छोड़ न देना |
अरविन्द तुम्हे समझाता हूं |
❥ कुमार अरविन्द ( गोंडा )

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. ashmita - April 12, 2018, 10:09 pm

    nice

  2. Panna - April 13, 2018, 1:12 pm

    behatreen

Leave a Reply