घर मेरा तुम्हें हवादार नहीं लगता।

घर मेरा तुम्हें हवादार नहीं

लगता।

मैने हकीकत कही तुम्हें असरदार

नहीं लगता।।

,

कि कशती कहीं डूब न जाए सफर

में मेरी।

तुम दुआ करो तूफान मेरा तरफदार

नहीं लगता।।

,

शक्ल से कहा हो पाएगा तुम्हें कुछ

अंदाजा।

मुसकुराता रहा हूँ जख्म है,पर बिमार

नहीं लगता।।

,

और ढूँढना पड़ता है जिंदगी में इक

इक लमहा।

सच है कि खुशियों का कहीं बाजार

नहीं लगता।।

,

वैसे तो खबरों की कोई कमी नहीं है

इनमें।

मगर क्या कहे साहिल ये अखबार

नहीं लगता।।

@@@@RK@@@@


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

5 Comments

  1. Vipul Mishra - May 22, 2017, 11:14 pm

    उम्दा

  2. Profile photo of Neetika sarsar

    Neetika sarsar - May 22, 2017, 11:33 am

    osm

  3. Profile photo of सीमा राठी

    सीमा राठी - May 21, 2017, 10:17 pm

    nice

Leave a Reply