गोरैया चिड़िया

सुबह सुबह घर के आँगन में वो फुदक फुदक इठलाती थी,

गोरैया चिड़िया जब अक्सर हमसे मिलने आती थी,

विलुप्त हो रही है जो पंछी वो चूँ चूँ करके गाती थी,

छोटे छोटे बच्चों को भी वो मन ही मन में भाती थी,

बड़ी सरलता से जो घर की छत पर हमको दिख जाती थी,

अब इंटरनेट के पन्नों पर वो ढूंढे से मिल पाती है।।
राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Panna - March 21, 2018, 11:24 am

    Bahut khoob

Leave a Reply