गुब्बारे

देख गुब्बारे वाले को जब
बच्चे ने आवाज़ लगाई
दिला दो एक गुब्बारा मुझको
माँ से अपनी इच्छा जताई।

देखो न माँ कितने प्यारे
धूप में लगते चमकते सितारे
लाल, गुलाबी, नीले ,पीले
मन को मेरे भाते गुब्बारे।

देख उत्सुक्ता माँ तब बोली
बच्चे माँ मन रखने को
भैया दे दो इसको गुब्बारा
पैसे ले लो मुझसे तुम।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By Neha

10 Comments

  1. ashmita - May 20, 2018, 5:07 pm

    nice one Neha

    • Neha - May 20, 2018, 6:37 pm

      Thank u Ma’am

      • ashmita - May 20, 2018, 7:32 pm

        plz don’t call me ma’am

      • Neha - May 20, 2018, 7:51 pm

        Okay

  2. Mithilesh Rai - May 20, 2018, 8:10 pm

    Very good

  3. Anshita Sahu - May 21, 2018, 10:38 am

    beautiful poem

  4. Mithilesh Rai - May 21, 2018, 9:26 pm

    बेहतरीन

Leave a Reply