गुंजाईश

मेरी आँखों में ही खुद को निहारा करता है,
हर रोज़ ही वो चेहरा अपना संवारा करता है,

आईने के सही मायने उसे समझ ही नहीं आते,
कहता कुछ नहीं बस ज़हन में उतारा करता है,

गुंजाइय दूर तलक कहीं सच है नज़र नहीं आती,
के वो किसी और के भी मुख को निखारा करता है।।

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. ज्योति कुमार - November 22, 2018, 7:56 am

    उम्दा

Leave a Reply