गजल

✍🌹 गजल 🌹✍
—–(*)—–

जग मे कुछ कर जाना जरूरी है
जीवन मे मुस्कुराना जरूरी है

चाहे हो कष्ट संकट गहनतम
धैर्य से निकल जाना जरूरी है

जग का काम है करना अवरोध
बुद्धि से पार पा जाना जरूरी है

हर नेक काम का होता है विरोध
समझ से निखर जाना जरूरी है

मानव का लक्ष्य है आगे बढना
मनोबल से राह पाना जरूरी है

श्याम दास महंत
घरघोडा
जिला-रायगढ (छग)
✍🌹🙏🏻🌹✍

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Neetika sarsar - March 29, 2018, 11:59 am

    bhut khoob

  2. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:44 pm

    Waah

Leave a Reply