ख्वाब

कुछ ख्वाब ऐसे थे,
कुछ ख्वाब वैसे थे,
कुछ दिल के हिस्से थे,
कुछ दर्द के किस्से थे,
कुछ खुदा को समझाने थे,
कुछ खुद को समझने थे,
कुछ टूटकर रह गए,
कुछ अश्क संग बह गए,
कुछ आदत बन गए,
कुछ भूल बन गए,
कुछ ख्वाब ऐसे थे,
कुछ ख्वाब वैसे थे!
( निसार)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Vipul - May 20, 2017, 12:23 pm

    बेहतरीन

Leave a Reply