ख्वाब

कुछ ख्वाब जिन्दगी में
हमेशा अधूरे रह जाते हैं।

अरे दूसरों को क्या समझाऊ मैं,
अपने ही समझ नहीं पाते हैं।

अरे हमसे भी तो पूछ कर देखो,
हम क्या चाहते हैं।

“सुखबीर” जो अपने विचार प्रगट नहीं करते,
वह जीते ही, मर जाते हैं।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Leave a Reply