खामोश तस्वीरों की जैसे कोई आवाज बन गया हूँ,

खामोश तस्वीरों की जैसे कोई आवाज बन गया हूँ,
अनजाने में ही जैसे उनके अल्फ़ाज़ बन गया हूँ,
जो कह नहीं पाती वो अपनी आँखों से खुलकर,
मैं उनके कबीले का कोई सरदार बन गया हूँ,
छिपा नहीं पातीं वो जो दर्द अपने चेहरे पर,
मैं उन्ही के करीब का कोई रिश्तेदार बन गया हूँ।।

राही (अंजाना)
Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Mithilesh Rai - June 8, 2018, 7:10 am

    बेहतरीन

  2. Neha - July 31, 2018, 8:55 pm

    Osm

Leave a Reply