क्षणिका

क्षणिका 🌹:–

जब गम सताता है,
गाने मैं गुनगुनाता हूं ।
जब ददं रुलाता है,
तराने मैं सजाता हूँ ।।
(1)
जब रंज बढ आता है,
रंगीला मन मै हो जाता हूं ।
जब जख्म गहराता है,
मस्ती मगन मै बो जाता हूँ।।
(2)
देती है पीड़ा जब चुभन,
चुप्पी का राग बन जाता हूं ।
व्यथा करती है जब भी आहत,
प्यार का पराग बन जाता हूँ ।।
(4)
मालूम है मुझे इंसान हूँ मैं!
मानवेत्तर ताग बन जाता हूँ ।
मिलती है चुनौती जब संघर्ष की करमो का आग बन जाता हूँ।।
🌹🙏🏻🌹
✍✍✍✍✍✍
श्याम दास महंत
घरघोडा (रायगढ )
दिनांक 08 -03 -2018 ✍

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. ashmita - March 9, 2018, 1:52 pm

    nice

  2. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:13 pm

    Waah

Leave a Reply