कुछ लोग………..

बहुत शराफत से पेश आये कुछ लोग
हमारे जनाजे पर आये कुछ लोग

आखरी रस्म की कदर करी उन सब ने
हमें कांधा देने आये कुछ लोग

रस्म-ऐ-बफा सब निभा नहीं सकते है
काबा पर हमने बुलाये कुछ लोग

सोचा था सब अपने है इस दुनिया मे
मगर, रस्म-ऐ-अपनापन निभा पाए कुछ लोग

यूँ तो मायूस दिख रहे थे वह पर सभी
मेरी कब्र पर मगर आंसू बहा पाए कुछ लोग

बहुत शराफत से पेश आये कुछ लोग
हमारे जनाजे पर आये कुछ लोग…………………..!!

                                               ……………….D K

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 
सावन का लक्ष्य है, कविता के लिए एक मंच स्थापित करना, जिस पर कविता का प्रचार व प्रसार किया जा सके और मानवता के संदेश को जन-जन तक पहुंचाया जा सके| यदि आप सावन की इस उद्देश्य में मदद करना चाहते है तो नीचे दिए विज्ञापन पर क्लिक करके हमारी आर्थिक मदद करें|

 

Leave a Reply