कुछ नही मिलती ।

उनकी खैर– खबर नही मिलती;
. हमको ही खासकर नही मिलती ।
मै लचार हो जाऊँगा;
. . अगर तु नही मिलती ।।
लोग कहते है;
बजार मे रूह मे दिल; जिस्म मे दुनिया पैसे पर मिलती —
……….. लेकिन मै जिस शहर मे हूँ यहाँ कुछ नहीं मिलती।।

ज्योति

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply