किसी से गिला नही किसी से सिकवा नही।

किसी से गिला नही किसी से सिकवा नही।

किसी से गिला नही किसी से सिकवा नही,
एक दिन आएगा ,
एेसा की मै कही नजर नही आऊँगा—-
बहुत दु:ख दिया अपनो ने दिल के अन्दर कही समाजाऊँगा,
उस दिन से किसी से गिला नही सिकवा नही,
दो दिन याद करोगे अपना सब अगले दिन फिर किसी को याद नही आऊँगा,
मुझे मालुम था,
कि डाल पर खिलते फुल की तरह भी तोड़ लिया जाऊँगा।।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Mithilesh Rai - June 6, 2018, 9:35 pm

    बेहतरीन

  2. राही अंजाना - June 6, 2018, 9:53 pm

    वाह

Leave a Reply