किरदार कई बदले पर यार न बदला

किरदार कई बदले पर यार न बदला
हालात कई बदले पर उसका प्यार न बदला
जीवन के सफर में ठोकरें लगी कई हज़ार
पर बार-बार वो यही बोला
“तू इतनी चिंता क्यों करता है मेरे यार”
मस्ती करने में माहिर हर पल
उसका यह व्यवहार न बदला,
जग बदला कदम-कदम पर
पर वो मेरा यार बिलकुल न बदला।।

-मनीष

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply