कश्मीरियत ! इन्सानियत !!

 

गलतियाँ तुमसे भी हुई है , गुनाह हमने भी किये है

पत्थर तुमने फेंके , गोलियों के जख्म हमने भी दिए है ।

गोली से मरे या शहीद हुए पत्थर से; नसले-आदम का खून है आखिर ,

किसी का सुहाग ,किसी की राखी; किसी की छाती का सुकून है आखिर ।

कुछ पहल तो करो , हम दौड़े आने को तैयार बैठे है

पत्थर की फूल उठाओ , हम बंदूके छोड़े आने को तैयार बैठे है ।

बंद करो नफ़रत की खेती , स्वर्ग को स्वर्ग ही रहने दो

बहुत बोल चुके अलगाववाद के ठेकेदार ,अब कश्मीरियत को कुछ कहने दो ।

उतारो जिहाद , अलगाववाद का चश्मा

कि “शैख़ फैज़ल” और बुरहान वानियो में फर्क दिखे

दफन करदो इन बरगलाते जहरीले चेहरों को इंसानियत के नाम पर

कि आने वाली नस्लों की कहानियों में फर्क दिखे ।।

#suthars’

 

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

5 Comments

  1. Udit jindal - September 7, 2016, 11:46 am

    बेहतरीन

  2. Metabolic Cycle - September 4, 2018, 7:45 pm

    … [Trackback]

    […] Find More on|Find More|Read More Informations here|Here you can find 15101 more Informations|Informations to that Topic: saavan.in/कश्मीरियत-इन्सानियत/ […]

  3. DMPK Studies in Rodents - September 4, 2018, 10:12 pm

    … [Trackback]

    […] Find More on|Find More|Find More Infos here|There you will find 19502 more Infos|Informations to that Topic: saavan.in/कश्मीरियत-इन्सानियत/ […]

  4. empresas de informática lisboa - September 6, 2018, 12:11 am

    … [Trackback]

    […] Read More here|Read More|Read More Informations here|There you will find 12307 additional Informations|Informations to that Topic: saavan.in/कश्मीरियत-इन्सानियत/ […]

  5. Pharmacokinetic Screening in mide - September 11, 2018, 7:39 am

    … [Trackback]

    […] Find More here|Find More|Read More Infos here|There you will find 76766 more Infos|Informations on that Topic: saavan.in/कश्मीरियत-इन्सानियत/ […]

Leave a Reply