कविता

चलो चले …
किसी नदी के किनारे
किसी झरने के नीचें |
जहाँ तुम कल कल बहना
झर झर गिरना और…
और मैं मंत्रमुग्ध हो झरनों की
लहरों की अंतर्धव्नि से राग लेकर
लिखता जाऊँगा |
चलो चले…
किसी उपवन में
या कानन में !
वहाँ तुम कोयल से
राग मेल करना या
पपीहे के संयम को टटोलना
और मैं उन संवेदनाओं की लडी
अपनी कविता रूपी माला में
पीरो कर तुम्हारा श्रृंगार करता रहुंगा |
चलो चले…
सागर के तट पर
तुम उसकी लहरों के साथ
अठखेलिया करना |
और मैं उसके किनारों के
संस्कारों का वर्णन करता रहुंगा !
उसमें दिखने वाले पीले
चमकीले मोतियों को
समेटते समेटते स्वयं ही
लहरों में डूबता उतराता रहुंगा !
चलो चले…
किसी के दर्द में आह् में
किसी कटीले पथ में राह में |
तुम किसी पीडा की आँखे पोछना
मैं उन आसूओं के उद्गम की वेदना
को अपने श्वासों का सुर देता रहुंगा !
चलो चले…
किसी वियोगिनी के वियोग में
उसकी तपश्या के प्रासाद में
उठने वाली कुहुकों को टीसों को
अपने अंत:करण से सूनने |
तुम कुछ उदास होना और
मैं चित्कारे मार मार कर रो लुंगा !
चलो चले…
किसी रणभूमि में
जहाँ दु:शासन दुर्योधन हो
श्री कृष्ण और सुयोधन हो |
मैं भी तलवार उठा लुंगा
तुम नाचना रणचण्डी बनकर
मैं अर्जून कुछ क्षंण बन जाऊँगा !
तब कविता पूरी हो जायेगी
मैं दुष्ट दलन कहलाऊँगा !!
फिर कुम्हलाये देख कपोलों को
दुति दामिनी तुम्हे पुकारुंगा !
तुम सूनती रहना मुझे सदा
और मैं तुझको ही गा लुंगा !!
उपाध्याय…

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Anika Chaudhari - July 28, 2016, 1:07 pm

    अतिउत्तम

Leave a Reply