“ऐ फ़लक ऐ हवा वो नजारा क्या हुआ”

ऐ फ़लक ऐ हवा वो नजारा क्या हुआ।
हर शाम जो दिखा था वो सितारा क्या हुआ।।
,
हमसें निभाया न गया क़िरदार जिंदगी का।
जब छोड़ दी है दुनिया फिर तमाशा क्या हुआ।।
,
झूठी थी सारी कसमें फिर भी यक़ीन किया।
हमनें किया था ये क्यूँ अब इज़ाफ़ा क्या हुआ।।
,
ख़त में नहीं था कुछ भी तुमको भी था पता।
जो साथ गया था उसके वो लिफ़ाफ़ा क्या हुआ।।
,
साहिल से कह जो देते वो रह जाता भँवर में।
इरादतन डुबोके वैसे तुम्हारा मुनाफ़ा क्या हुआ।।
@@@@RK@@@@


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

8 Comments

  1. Profile photo of Dev Kumar

    Dev Kumar - April 3, 2017, 4:23 pm

    So Nice

  2. Profile photo of Mithilesh Rai

    Mithilesh Rai - April 2, 2017, 9:44 pm

    बेहतरीन

  3. Profile photo of सीमा राठी

    सीमा राठी - April 2, 2017, 3:51 pm

    Umda Alfaaz

  4. Profile photo of Kumar Bunty

    Kumar Bunty - April 2, 2017, 12:11 pm

    BAHUT KHOOB

Leave a Reply