ऐसा रंग तो डालो पिया।

आप सभी को होली की रंगों भरी हार्दिक शुभकामनाएँ

::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
ऐसा रंग तो डालो पिया।
सारा तन-मन रंग डालो पिया ।
सात रंगों की बरखा है आई ,
गुलाल अबीर उड़ा लो पिया।

फूल पलाश लाल रंग ले आई ।
कोयल फाग गीत है सुनाई ।
रंगों के संग द्वार मेरे साजन,
श्याम बन तुम आ जाओ पिया।

सात रंगों की घटाओं संग
रंगों की बरखा तुम लाओ
भीगे चुनरिया तेरे रंग से
ऐसा रंग तो बरसाओ पिया।

बहकी हवाओं ने बहकाया
चुपके से मेरे आंचल में समाया
सुध-बुध खो गए अब तो मेरी
मुझको तो अब संभालो पिया

पोर पोर रंग लो अपने रंग से
हो प्रेम का ही रंग मेरे अंग में
बस तड़प की चाह मिट जाए
कुछ ऐसा रंग तो डालो पिया
::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::

स्वरचित मौलिक
योगेन्द्र कुमार निषाद
घरघोड़ा,छ०ग०
7000571125

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply