ऐसा क्यों है

ऐसा क्यों है

चारो दिशाओं में छाया इतना कुहा सा क्यों है

यहाँ जर्रे जर्रे में बिखरा इतना धुआँ सा क्यों है

शहर के चप्पे चप्पे पर तैनात है पुलिसिया

फिर भी मचा इतना कोहराम सा क्यों है.

मिलती है हरएक को छप्पर फाड़कर दौलत

फिर भी यहाँ मरता भूख से इंसान सा क्यों है

चारो तरफ बिखरी हैं जलसों की रंगीनियाँ

फिर भी लोगों में इतना अवसाद सा क्यों है.

हर कोई मन्दिर मस्जिद में जा पुण्य कमाता

फिर भी बढ़ता यहाँ इतना पाप सा क्यों हैं

चलते में बना लेते हैं किसी को भी अपना

फिर भी फैला इतना दुराव सा क्यों है.

उसके जहाँ से आये थे सब एक जैसे लोग

फिर भी यहाँ इतना अलगाव सा क्यों है

वे साथ में जीने मरने की कसमें भी तो खाते थे

फिर भी एक को छोड़कर जीने का अरमान सा क्यों है.

सामने तो खूब कहते थे कि हम सब भाई भाई होते है

फिर भी नजर हटते ही इतना संग्राम सा क्यों है

उसकी गिनती तो अच्छों में होती थी यारो

फिर भी होता इतना बदनाम सा क्यों है.

जनाब तो कहते हैं की सब ठीक चल रहा है

फिर भी होता इतना घमासान सा क्यों है

तेरी साफगोई के तो हम भी कायल थे दोस्त

फिर भी तेरी बातों में इतना घुमाव सा क्यों है.

पिछली बार तो हमसे कहते थे कि यहाँ मत आना

फिर भी आँखों में मेरे आने का इन्तजार सा क्यों है

यहाँ पर तो पहले तासों के मेले लगा करते थे

फिर भी यहाँ इतना सूनसान सा क्यों है.

तुम तो कहते थे कि वो दिल में बसते हैं मेरे

फिर भी उनसे जुदा होने का फरमान सा क्यों है

लाख जोड़े थे टूटे हुए माला के प्यारे से मोती

फिर भी जुड़ने में उनके हैरान सा क्यों है.

सबके चेहरों से टपकती थी कितनी सज्जनता

फिर भी छिपा इनमें ये हैवान सा क्यों है

तुमने तो यहाँ घर बसाने का वादा किया था उनसे

फिर भी यहाँ सन्नाटे का शमशान सा क्यों है.

उनकी बेइज्जती करने का बहुत शौक था तुमको

फिर भी उनके लिए इतना सम्मान सा क्यों है

हमें तो बताया था कि मुंह मोड़ लिया तुमने उनसे

फिर भी दिल में उनका इश्क परवान सा क्यों है.

कहते थे मन्दिर में रहते हैं पत्थर के उजले टुकड़े

फिर भी उस पत्थर में लगता भगवान सा क्यों है

तुमने तो वक्तों में कसम खायी थी ईमानों की

फिर भी तुम्हारा दिल यूं बेईमान सा क्यों है.

भीड़ में तो कहते थे कि बहुत सादे हो मन के

फिर भी अंदर से इतना गुमान सा क्यों है

कहते हैं वो तो बसती है हरएक के दिल में मेहरबानो

फिर भी मोहब्बत का नाम इतना गुमनाम सा क्यों है.

तार टूटे हैं उनके दिल की बजती बीणा के चटके कर

फिर भी वो मोहब्बत के लिए इतना हलकान सा क्यों है

तुम तो कहते थे थूक दोगे उनके आते ही मुंह पर

फिर भी तुम्हारे नक्शों में ये दुआ सलाम सा क्यों है.

घूमते थे हाथों में खंजर लिए उनको मारने की खातिर

फिर भी आज उनपर इतना मेहरबान सा क्यों है

तुम उस वक्त तो कहते थे बेफिजूल की उनको

फिर भी दिल उनकी अदाओं का कदरदान सा क्यों है.

हम जानते हैं तुम दिल से चाहते हो सिर्फ हमको

फिर भी तुम्हारी बातों में दूसरों का बखान सा क्यों है.


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Related Posts

Leave a Reply