एक छोटी सी शीशी में गिरतार हो गई

एक छोटी सी शीशी में गिरतार हो गई

एक छोटी सी शीशी में गिरतार हो गई,

भला कैसे ये जिंदगी शर्मोसार हो गई,

यूँ तड़पी बेहद फिर तार-तार हो गई,

बेरुखी दुनियाँ भी तो बार-बार हो गई,

क्यों छिपती-छिपाती मेरी लाज एक दिन,

हर किसी की नज़रों के आर पार हो गई।।

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. देव कुमार - June 14, 2018, 8:50 pm

    Bahut khoob

  2. Mithilesh Rai - June 15, 2018, 4:43 am

    बहुत सुन्दर

  3. Neha - June 15, 2018, 8:38 pm

    Osm

  4. देव कुमार - June 18, 2018, 3:23 pm

    Welcome

Leave a Reply