एक और मासूम की जिंदगी “रहस्य “देवरिया

एक और मासूम की जिंदगी “रहस्य “देवरिया

एक और मासूम की जिन्दगी (“रहस्य”)
😐😐😐😐😐😐
दौलत की चाहने रिश्तों के धागे को तार तार कर दिया हैं,
एक और मासूम की जिन्दगी को मरने पर लाचार कर दिया हैं,,
😌😌😌😌😌😌
पापा सब दिया आपने इन्हें मेरी सूख खूशीओ की खातीर,
पर इन दहेज़ के लोभीओ ने मेरा जिना दूशवार कर दिया हैं,,
😔😔😔😔😔😔
और ना हो सको परेशान मेरी वजहा मेरी होठों की हॅशी के लिए,
माफ करना बाबा मुझे इसी लिए अपनी जान निसार कर दिया हैं,,
😦😦😦😦😦😦
दौलत की चाहने रिश्तों के धागे को तार तार कर दिया हैं,
👰👰👰👰👰👰
((((“रहस्य “))))((देवरिया))

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply