एक उम्मीद फिर से छुट गई।

एक उम्मीद फिर हाथ से छुट गयी,
देखते ही देखते एक और रिस्ता टुट गई।
इस तरह तोड़ा है—
मतलबी दुनिया मेरा दिल ।
अब जिन्दगी भी हमसे ऱूठ गयी।।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Anjali Gupta - May 15, 2018, 2:02 pm

    nice

  2. Mithilesh Rai - May 16, 2018, 5:49 pm

    Very nice

  3. राही अंजाना - May 16, 2018, 8:39 pm

    Waah

  4. Mithilesh Rai - May 19, 2018, 4:18 pm

    बहुत सुन्दर

Leave a Reply